‘नेकियाँ’ Nekiya Poem On Social work In Hindi

कहते है फरिश्ते का नाम पता नहीं होता Nekiya Poem On Social work Hindi

कहते है की, फरिश्ते का नाम पता नहीं होता, वो उनके काम से पहेचाने जाते हैं। मेरे नजदीकी बुजुर्ग रिश्तेदार के ओपरेशन के वक्त मैं किसी कारणवश जा न सकी..! मेरी जगह किसी फरीश्तेने उन बुजुर्ग के सर हाथ फेर वात्सल्य का आदर्श प्रस्तुत किया। तो हमारी कलम ने उनके आभार में ‘नेकियाँ’ Nekiya Poem On Social work In Hindi ये कविता लिख दी…! इस image को आप WhatsApp, Facebook etc पर share कर social work की सराहना कर सकते है, Thanks

Maa Ki Mahima Par Kavita

‘नेकियाँ’ Nekiya Poem On Social Work

नमस्कार दोस्तों…, 

कुछ लफ्जों को पिरो रहीं हूं , 

किसी की नेकी को समर्पित…!

जिस समाजसेवी बिटीयां ने,

वात्सल्य का फर्ज अदा किया…..!!(1)

कहते है की, फरिश्ते का नाम पता नहीं होता …!!

आज फिर एक नेकी की दौलत देख,

दिल बागबान हो गया…!!

अपना न होकर भी वो अपनों का,

हक अदा कर गया….!!(2)

प्रेम और वात्सल्य के दो शब्द, 

लूटाकर जादूगर फरिश्ता वो….!!

किसी जरूरतमंद के दिल को,

ढेर सारा सुकून दे गया….!!(3)

बेशक पैसों से चलती है दुनिया,

पर सुकून तो भावनाएं देती है….!!

प्यार की, वात्सल्य की, नेकी की, 

सन्मान की, सुरक्षा की, अपनेपन की…!!(4)

जबतक रहेगी वात्सल्य की ये भावनाएं,

अवश्य बरकरार रहेगी एसी नेकींयाएं…..!

समाजसेवी बेटीयोंके उस वात्सल्य को ..!!

समर्पित है यह कुछ पंक्तियाँए…!!!(5)

धन्यवाद

Nekiya Poem On Social work :

Kuchh laphjon ko piro rahi hu ,

kisi ki neki ko samarpit…!

jis samajasevi bitiyaa ne,

vaatsaly ka pharj ada kiya…..!!(1)

Kahate hai ki, pharishte ka naam pata nahin hota …!!

Aaj phir ek neki ki daulat dekh,

dil baagabaan ho gaya…!!

apana na hokar bhi vo apano ka,

hak ada kar gaya….!!(2)

Prem aur vaatsaly ke do shabd,

lutaakar jaadugar pharishta vo….!!

kisi jarurata-mand ke dil ko,

dher saara sukun de gaya….!!(3)

Beshak paiso se chalati hai duniya,

par sukun to bhavanae deti hai….!!

pyaar ki, vaatsaly ki, neki ki,

sanmaan ki, suraksha ki, apanepan ki…!!(4)

Jabatak rahegi vaatsaly ki ye bhavanae,

avashy barakaraar rahegi esi nekiyae…..!

samaajasevi betiyonke us vaatsaly ko ..!!

samarpit hai yah kuchh panktiyaaye…!!!(5)

‘नेकियाँ’ Nekiya Poem On Social work In Hindi post पढ़ने के लिए शुक्रिया दोस्तो..! आपको भी किसी के अच्छे कार्य की सराहना करनी हो तो यहां कमेंट कर अवश्य बताएं। आज भी अच्छाई, सच्चाई, नेक कार्य जिंदा है, और रहेंगे…बस सभी एक दूसरे का साथ दे..! धन्यवाद

Leave a comment